Category Archives: Patriotic

चीन-ओ-अरब हमारा, हिन्दोस्ताँ हमारा

Happy Independence Day 2012 / स्वतंत्रता दिवस २०१२ आज़ादी के 65 वर्ष पूरे हुये… एक तरफ एक ऐसी स्वतंत्रता की ख़ुशी जिसके लिये लाखों-करोड़ों लोगों ने कोई आठ सौ वर्ष कमोबेश परतंत्र के दुःख झेले, दूसरी तरफ अभी भी बहुत … Continue reading

Posted in Film Lyrics, Hindi | हिन्दी, Literature, Patriotic, Urdu (Hindustani) | Tagged , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , | Comments Off on चीन-ओ-अरब हमारा, हिन्दोस्ताँ हमारा

वतन की राह में वतन के नौजवाँ शहीद हो

वतन की राह में, वतन के नौजवाँ शहीद हो पुकारते हैं ये ज़मीन-ओ-आसमाँ, शहीद हो वतन की राह में … शहीद तेरी मौत ही, तेरे वतन की ज़िंदगी तेरे लहू से जाग उठेगी, इस चमन की ज़िंदगी खिलेंगे फूल उस … Continue reading

Posted in Film Lyrics, Hindi | हिन्दी, Literature, Patriotic, Urdu (Hindustani) | Tagged , , , , , , , , , , , , , , , , , , , | Comments Off on वतन की राह में वतन के नौजवाँ शहीद हो

सरफ़रोशी की तमन्ना (पं. रामप्रसाद ‘बिस्मिल’)

सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है देखना है ज़ोर कितना बाज़ू-ए-क़ातिल में है। करता नहीं क्यूं दूसरा कुछ बात चीत देखता हूं मैं जिसे वो चुप तिरी मेहफ़िल में है। ऐ शहीदे-मुल्को-मिल्लत मैं तेरे ऊपर निसार अब तेरी … Continue reading

Posted in Hindi | हिन्दी, Literature, Patriotic, Urdu (Hindustani) | Tagged , , , , , , , , , | Comments Off on सरफ़रोशी की तमन्ना (पं. रामप्रसाद ‘बिस्मिल’)

भारतेंदु हरिश्चंद्र की कुछ और रचनायें

अंग्रेज़ महिमा मरी बुलाऊँ, देस उजाडूँ, महँगा करके अन्न। सबके ऊपर टिकट लगाऊँ धन है मुझको धन्न।। टिपण्णी: यहाँ टिकट का प्रयोग संभवतः “टैक्स” (कर) के लिये किया गया है —- “अथ अंगरेज स्तोत्र लिख्यते” “ “तुम मूर्तिमान हो, राज्य … Continue reading

Posted in Hindi | हिन्दी, Humor, Literature, Patriotic | Tagged , , , , , , , , , , , | Comments Off on भारतेंदु हरिश्चंद्र की कुछ और रचनायें

जसोदा हरि अंग्रेज़ी पढ़ावै…

जसोदा हरि अंग्रेज़ी पढ़ावै मेरो लाल “कॉन्वेंट” जात है, “इंग्लिश पोइम” गावै “टाटा” कहि जब विदा होति है, रोम-रोम हर्षावै “आंटी” सुनि चाची बलि जावै, “अंकल” मूंछ फड़कावै “डांस” करत “कज़िन सिस्टर” संग, नंदबाबा मुस्कावै बरसाने या छवि को निरखत … Continue reading

Posted in Hindi | हिन्दी, Humor, Literature, Patriotic | Tagged , , , , , , , , , , | Comments Off on जसोदा हरि अंग्रेज़ी पढ़ावै…