Monthly Archives: November 2017

देनदार कोई और है…

देनदार कोउ और है, देत रहत दिन-रैन । लोग भरम हम पर करें, ताते नीचे नैन ।। कवि: अब्दुर्रहीम खान खाना / Abdul Rahim Khan-I-Khana

Posted in Hindi | हिन्दी, Literature, Urdu (Hindustani) | Tagged , , , , , , , , , , , , | Comments Off on देनदार कोई और है…