Tag Archives: Pearls of Wisdom

देनदार कोई और है…

देनदार कोउ और है, देत रहत दिन-रैन । लोग भरम हम पर करें, ताते नीचे नैन ।। कवि: अब्दुर्रहीम खान खाना / Abdul Rahim Khan-I-Khana

Posted in Hindi | हिन्दी, Literature, Urdu (Hindustani) | Tagged , , , , , , , , , , , , | Comments Off on देनदार कोई और है…

सुभाषित : शोक का प्रभाव

मूल संस्कृत पद्य शोको नाशयते धैर्य, शोको नाशयते श्रॄतम्। शोको नाशयते सर्वं, नास्ति शोकसमो रिपु॥

Posted in Hindi | हिन्दी, Literature, Sanskrit | संस्कृत | Tagged , , , , , , | Comments Off on सुभाषित : शोक का प्रभाव

नीति-शतक : न्याय का पथ

मूल संस्कृत पद्य निन्दन्तु नीतिनिपुणा, यदि वा स्तुवन्तु लक्ष्मीः स्थिरा भवतु, गच्छतु वा यथेष्टम् । अद्यैव वा मरणमस्तु, युगान्तरे वा न्याय्यात्पथः प्रविचलन्ति, पदं न धीराः ।। ७४ ।।

Posted in Hindi | हिन्दी, Literature, Sanskrit | संस्कृत | Tagged , , , , , , , , , , , , , | Comments Off on नीति-शतक : न्याय का पथ

रात गई फिर दिन आता है…

रात गई फिर दिन आता है इसी तरह आते-जाते ही, ये सारा जीवन जाता है…

Posted in Film Lyrics, Literature | Tagged , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , | Comments Off on रात गई फिर दिन आता है…

अति का वर्जन

अति गुणी अति निर्गुणी, अति दाता अति सूर इन चारौं से लक्ष्मी, सदा रहत हैं दूर ——– श्रेणी: बुन्देलखंड की लोकोक्तियाँ स्रोत: दोहा ज्ञान अमृत सागर (संग्रहकर्ता: श्री देवीदीन विश्वकर्मा, कीरतपुरा, महोबा, उ.प्र.) मुद्रक: गोपाल ऑफसेट प्रेस (मऊरानीपुर, झाँसी, उ.प्र.) … Continue reading

Posted in Hindi | हिन्दी, Literature | Tagged , , , , , , , , , , , , , , , | Comments Off on अति का वर्जन