Tag Archives: Poems

क्या उम्मीद करें हम उनसे…

क्या उम्मीद करें हम उनसे, जिनको वफ़ा मालूम नहीं ग़म देना मालूम है लेकिन, ग़म की दवा मालूम नहीं

Posted in Hindi | हिन्दी, Literature, Sher-o-Shayari, Urdu (Hindustani) | Tagged , , , , , , , | Comments Off on क्या उम्मीद करें हम उनसे…

उनका ग़म

हर ख़ुशी दिल को ग़मगीन किये जाती है इक तेरे ग़म से ज़िंदगी शादाब हुई जाती है

Posted in Hindi | हिन्दी, Literature, Sher-o-Shayari, Urdu (Hindustani) | Tagged , , , , , , | Comments Off on उनका ग़म

श्रृंगार-शतक : रमणियाँ

मूल संस्कृत पद्य स्मितेन भावेन च लज्जया भिया पराङ्गमुखैरर्धकटाक्षवीक्षणैः । वचोभिरीर्ष्याकलहेन लीलया समस्तभावैः खलु बन्धनं स्त्रियः ।। २ ।।

Posted in Hindi | हिन्दी, Literature, Sanskrit | संस्कृत | Tagged , , , , , , , , , | Comments Off on श्रृंगार-शतक : रमणियाँ

श्रृंगार-शतक : स्त्रियों के आभूषण और अस्त्र

मूल संस्कृत पद्य भ्रूचातुर्यात्कुञ्चिताक्षाः कटाक्षाः स्निग्धा वाचो लज्जितान्ताश्च  हासाः । लीलामन्दं प्रस्थितं च स्थितं च स्त्रीणामेतद्  भूषणं चायुधं च ।। ३ ।। —

Posted in Hindi | हिन्दी, Literature, Sanskrit | संस्कृत | Tagged , , , , , , , , , | Comments Off on श्रृंगार-शतक : स्त्रियों के आभूषण और अस्त्र

ज़िंदगी ईनाम-ए-कुदरत है…

कहते हैं मुझसे, ज़िंदगी ईनाम-ए-कुदरत है सज़ा क्या होगी उसकी, जिसका ये ईनाम है साकी

Posted in Hindi | हिन्दी, Literature, Sher-o-Shayari, Urdu (Hindustani) | Tagged , , , , , , | Comments Off on ज़िंदगी ईनाम-ए-कुदरत है…